Popular Posts
Photo Gallery

ईश्वर ही एकमात्र सत्य है ।।

ऐश्वर्यस्य समग्रस्य वीर्यस्य यशसः श्रियः ।
ज्ञानवैराग्ययोश्चैव षण्णां भग इतीरणा ॥

अर्थ:- समग्र ऐश्वर्य, शौर्य, यश, श्री, ज्ञान, और वैराग्य इन छ: गुणों से "भग" बनता है । (भग अस्ति अस्ते इति भगवान = अर्थात् जहाँ ये छः गुण समग्र रूप से विद्यमान हों, वहीँ भगवान होता है )

 
Online Query
Letest News
भगवान के सभी भक्तों को दीपावली एवं नववर्ष की हार्दिक शुभकामना, नए वर्ष में भगवान नारायण एवं माँ महालक्ष्मी की पूर्ण कृपा से आप सभी ओत-प्रोत रहें ।। नमों नारायण ।।
Blog by Swami ji
Video Gallery
 
Contact Us

LOK KALYAN MISSION CHARITABLE TRUST" SILVASSA.

Phone Number :
+91-260-6538111

Mobile : +91-
+91-9375288850, +91 - 9408446211

Email :
email@dhananjaymaharaj.com

dhananjaymaharaj@hotmail.com

All Rights Reserved © 2014 Swami Dhananjay Maharaj     Design By: SEO Silvassa